'Will Power' - Akhil Bhartiya Santmat Satsang Episode 2230 (Goa)

  • 🎬 Video
  • ℹ️ Description
preview_player
UCXQ2HFSXe1o1KVTNOMH05MQ

Param Sant Pujya Shri Suresh Bhaiya Ji is a renowned saint who is spreading spiritualism by the easiest and correct method of meditation. He is running a great spiritual organization named Akhil Bhartiya Santmat Satsang(ABSS), started by his spiritual teacher (Gurudev) Param Sant Mahatma Shri Yashpal Ji. Pujya Gurudev (Bhaiya Ji) is fully devoted towards spreading out the mission of Pujya Sahab Ji. Our Satguru Dev Param Sant Mahatma Shri Suresh Bhaiya Ji has evolved useful methods of practicing meditation in daily life for achieving concentration and has described them in his discourses.Practice of the method of Iti Marg ki Sadhana is meant for humanity and not for any religion, cast, creed or sect. Weekly meditation sitting (Satsangs) are organized at numerous Satsang centers by Pujya Gurudev (Bhaiya Ji) all over India. It is recommended to attend the Satsang programs to get the desired benefit in spiritual practice.

💬 Comments
Author

💐🙇‍♂️🙏ॐ जय सदगुरुदेव जय पदशरणम् 🙏🙇‍♂️💐

Author — Suraj Kumar

Author

Kameswar rao, saidabad, hyd - om shanti om shanthi om shanthi - jai sadguru jai padaseva

Author — Kameshwarrao Gollakota

Author

Kosi Kalan se Jagdish Chand Agrawal ka Param Pujya bhaiya ji ke a Pavan Pavitra Charan gamlon mein Kot Kot Pranam swikar Ho Om Shanti

Author — AGRAWAL GAMER

Author

Hello guru ji satguru dev jai padsharnam

Author — Chhotey Lal

Author

गुरु पूर्णिमा
की
बहुत बहुत
बधाई
04.07.2020



2003 जुलाई की 13तारीख
मुझे आज भी याद है,
जब मैं पहली बार अनंगपुर फरीदाबाद आश्रम गया।

1 दिन पहले बैग पैक कर लिया था, लेकिन मेरी प्यारी पोती के जन्म से,
मेरा प्रोग्राम कैंसिल हो रहा था।

लेकिन 12 तारीख रात और 13 तारीख गुरु पूर्णिमा ।

मेरी पोती का आगमन हुआ हॉस्पिटल में डॉक्टर साहब ने कहा 1 सप्ताह कोई मिल नहीं सकता,
सब कुशल मंगल था।
लेकिन, PRECAUTION

13.07.2003 सुबह ही
मैं अनंगपुर पहुंच गया।
एक फोन नंबर अनंगपुर स्कूल का, मैंने लिया C C Colony
से और अपने घर से 12 तारीख रात को नंबर चेक किया।
फोन डायल करके।
पूछा
बृजमोहन स्कूल।
Confirm हो जाने पर घरवालों को नंबर दे दिया। मोबाइल फोन नहीं था मेरे पास।

13 तारीख2003, पूज्य भैया जी, आनंगपुर मिले,

और कहा,
अरोड़ा साहब फोन करते हो और काट देते हो।

मैंने कहा भैया जी,
मैंने तो आपको कोई फोन नहीं किया।

भैया जी ने कहा,
आपने फोन करके पूछा बृजमोहन स्कूल, फिर फोन काट दिया।

मैंने कहा
O MY GOD

वो आप ने फोन उठाया था।

भैया जी ने मेरी बाजू पकड़ी और खींच कर एक प्यार की झप्पी देते हुए कहा,
छोड़ेंगे नहीं हम आपको अरोड़ा साहब।

फिर तो 7साल में 17जगह
सत्संग पर पूज्य भैया जी के साथ गया।

शिमला से शुरू कर,
चंडीगढ़,
हिमाचल, मंडी, कुल्लू, मनाली, रोहतांग पास, बैजनाथ,
जालंधर,
अमृतसर, हनुमानगढ़, टूंडला,
जबलपुर, राजामुंदरी, दावणगिरी, बैंगलोर, गोवा,
वाराणसी,

भैया जी ने बहुत प्यार दिया।

धन्यवाद।
सुरेंद्र अरोड़ा
9310094937

Author — suinder arora