Episode 85 | Om Namah Shivay | देखिये कौलश पर सुर असुर का महासंग्राम भगवान शिव को क्यों आया क्रोध

  • 🎬 Video
  • ℹ️ Description
  • UCO18e4fb__S28tfl6CPq8Lw
Episode 85 | Om Namah Shivay | देखिये कौलश पर सुर असुर का महासंग्राम भगवान शिव को क्यों आया क्रोध 4
UCO18e4fb__S28tfl6CPq8Lw

Episode 85 | Om Namah Shivay | देखिये कौलश पर सुर असुर का महासंग्राम भगवान शिव को क्यों आया क्रोध

90185_TrLive


नमः शिवाय का अर्थ "भगवान शिव को नमस्कार" या "उस मंगलकारी को प्रणाम!" है।
सिद्ध शैव और शैव सिद्धांत परंपरा जो शैव संप्रदाय का हिस्सा है,
उनमें नमः शिवाय को भगवान शिव के पंच तत्त्व बोध ,
उनकी पाँच तत्वों पर सार्वभौमिक एकता को दर्शाता मानते हैं,
"न" ध्वनि पृथ्वी का प्रतिनिधित्व करता है
"मः" ध्वनि पानी का प्रतिनिधित्व करता है
"शि" ध्वनि आग का प्रतिनिधित्व करता है
"वा" ध्वनि प्राणिक हवा का प्रतिनिधित्व करता है
"य" ध्वनि आकाश का प्रतिनिधित्व करता है
इसका कुल अर्थ है कि "सार्वभौमिक चेतना एक है"
शैव सिद्धांत परंपरा में यह पाँच अक्षर इन निम्नलिखित का भी प्रतिनिधित्व करते हैं :

"न" ईश्वर की गुप्त रखने की शक्ति (तिरोधान शक्ति) का प्रतिनिधित्व करता है
"मः" दुनिया का प्रतिनिधित्व करता है
"शि" शिव का प्रतिनिधित्व करता है
"वा" उसका खुलासा करने वाली शक्ति (अनुग्रह शक्ति) का प्रतिनिधित्व करता है
"य" आत्मा का प्रतिनिधित्व करता है
यह मंत्र "न", "मः", "शि", "वा" और "य" के रूप में श्री रुद्रम् चमकम्, जो कृष्ण यजुर्वेद का हिस्सा है, उसमे प्रकट हुआ है।
यह मंत्र रुद्राष्टाध्यायी जो शुक्ल यजुर्वेद का हिस्सा है उसमे भी प्रकट हुआ है.
पूरा श्री शिव पंचाक्षर स्तोत्र इस मंत्र के अर्थ हेतु समर्पित है ।
तिरुमंतिरम, तमिल भाषा में लिखित शास्त्र, इस मंत्र का अर्थ बताता है ।
शिव पुराण के विद्येश्वर संहिता के अध्याय 1.2.10 और वायवीय संहिता के अध्याय 13 में 'ॐ नमः शिवाय' मंत्र लिखा हुआ है
तमिल शैव शास्त्र, तिरुवाकाकम, "न", "मः", "शि", "वा" और "य" अक्षरों से शुरू हुआ है

महामृत्युञ्जय मंत्र
श्री रुद्रम् चमकम्
शिव
विभूति
यजुर्वेद
रुद्राष्टाध्यायी

💬 Comments on the video
Author

Om namah shivay 106
Om namah shivay 107
Om namah shivay 108
Har har mahadevd
Har har mahadevd

Author — Ram chandar

Author

🌺Om namah Shivay 🌺
🌹Om Namah Shivay🌹
🌼Om Namah Shivay🌼

Author — virendra pratap Sonker

Author

Om namah shivay 6
Om namah shivay 7
Om namah shivay 8
Om namah shivay 9
Om namah shivay 10

Author — Ram chandar

Author

Devo ke dev... Mahadev ki Jay 🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏

Author — priti shaw

Author

💫Nandi Roop g 🎉Kya baat hai g ✨Jai ho g🌷📝

Author — Harwinder Kumar Kaka

Author

🌹Om Nam ah shivay 🌹episode puts says dhaniyvad

Author — Jema makavana

Author

Om namah shivay 61
Om namah shivay 62
Om namah shivay 63
Om namah shivay 64
Om namah shivay 65

Author — Ram chandar

Author

Om namah shivay 46
Om namah shivay 47
Om namah shivay 48
Om namah shivay 49
Om namah shivay 50

Author — Ram chandar

Author

Om namah shivay 71
Om namah shivay 72
Om namah shivay 73
Om namah shivay 74
Om namah shivay 75

Author — Ram chandar

Author

Om namah shivay 76
Om namah shivay 77
Om namah shivay 78
Om namah shivay 79
Om namah shivay 80

Author — Ram chandar

Author

Om namah shivay 51
Om namah shivay 52
Om namah shivay 53
Om namah shivay 54
Om namah shivay 55

Author — Ram chandar

Author

ओम नमः शिवाय हर हर महादेव श्री हरि विष्णु भगवान श्री ब्रह्मा जी भगवान जय माता पार्वती/5/7/2020

Author — कालीचरन अहिरवार

Author

जो माता असुर का संहार करने में स्वयं समर्थ है।वो भी सहायता मांगने की लीला करती है।इन्ही की शक्ति से तो ब्रह्म, विष्णु,और महेश रचना, पालन, और संहार करने की शक्ति प्राप्त करते है।क्योंकि ये आदिशक्ति है।समस्त शक्तियों का मूल उद्गम श्रोत ।माता की लीला अपरम्पार।जय माता दी।

Author — Deepak Agrawal